सांस्कृतिक स्रोत एवं प्रशिक्षण केन्द्र (सी.सी.आर.टी.) के क्षेत्रीय केन्द्र हैदराबाद में बिहार के शिक्षकों ने अपने विभिन्न कलाओं एवं संस्कृतियों का प्रदर्शन करते हुए पुतली कला प्रशिक्षण में दिखाया जलवा!

402

अमरदीप नारायण प्रसाद

मोतिहारी:-संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार के सांस्कृतिक स्रोत एवं प्रशिक्षण केन्द्र के क्षेत्रीय केन्द्र हैदराबाद, तेलंगाना में पुतली कला पर आयोजित कार्यशाला ( दिनांक 12/09/2023 से 26/09/2023 तक ) में बिहार से नौ प्रतिभागी शामिल हुए। प्रतिभागियों में पूर्वी चंपारण से जयप्रकाश ठाकुर, कटिहार से देव कुमार मोदक, भोजपुर से अजय कुमार सिंह अमर, बक्सर से अजय कुमार ठाकुर , मुजफ्फरपुर से वीरेन्द्र कुमार एवं नीतू कुमारी , लखीसराय से आरूषि वर्मा, शेखपुरा से जूही रानी एवं वैशाली से लिना कुमारी थे।
इस प्रशिक्षण में सात राज्यों के प्रतिभागी शामिल हुए।इस पन्द्रह दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला में प्रत्येक राज्यों को अपने-अपने कला-संस्कृति को प्रदर्शित करने का मौका सी.सी.आर.टी. हैदराबाद के द्वारा दिया गया। जिसमें बिहार के नौ प्रतिभागियों के द्वारा छठ व्रत की प्रस्तुति की गई।
छठ व्रत प्रस्तुति के पश्चात विभिन्न राज्यों के प्रतिभागी के द्वारा ताली बजाते हुए यह मांग की जा रही थी कि” हमें भी बिहार बुलाओं।”
बिहार के प्रस्तुति के पश्चात सी.सी.आर.टी. के क्षेत्रीय केन्द्र हैदराबाद के फील्ड आफिसर श्रीमती सौन्दर्या कौशिक एवं कन्सलटेंट श्री वाई. चन्द्रशेखर ने भूरी -भूरी प्रशंसा की।
इस कार्यशाला में विभिन्न तरह के पुतली निर्माण करने का तरीका सिखाया गया एवं सभी प्रतिभागियों से विभिन्न तरह के पुतली का निर्माण कराया गया ‌। पुतली कला का विभिन्न विषयों में कैसे प्रयोग किया जाय, संबंधित पाठ योजना प्रतिभागियों से बनवाकर प्रस्तुति करायी गयी।सी.सी.आर. टी. हैदराबाद के द्वारा शैक्षणिक भ्रमण सलार जंग म्यूजियम, गोलकुंडा का किला एवं शिल्पारमनम वग़ैरह का भ्रमण कराया गया। कार्यशाला के अन्तिम दिवस सिद्धि समारोह के अन्तर्गत सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here